बचपन से यह कैसा खिलवाड़..?

मै एक सज्जन से मिलने उनके घर गया . बेल बजाई तो एक नन्हा बालक बाहर आया , कहने लगा --"तिनथे   मिलना है ." मैंने पूछा-" पापा हैं ?" बालक अन्दर जाते हुए कहनें लगा -"देथ ते आता हूँ ." लौटा और कहनें लगा -" पापा तह लहे हैं ति वो धर पल नहीं हैं ." बालक के भोलेपन ने सारा वाकिया बयां कर दिया . मैं लौटनें लगा तो बालक की पुनः पीछे से आवाज़ आई -" अंतल दी छोप-छुपारी था लिदिये ." मै जाते-जाते सोंचने लगा " कितना संस्कारी है, ये बालक !!!
पर उसके भोलेपन के साथ आखिर यह कैसा खिलवाड़ ?????

Comments

Popular posts from this blog

" तोर गइया हरही हे दाऊ....!!! "

तो क्या इस बार रावण को दफनाना पड़ेगा …???"

" जब गीली जेब से निकली रुदनी ....!!! "